By | September 5, 2020

दोस्तों आज हम आपके लिये लेकर आये है कुछ एसे देसी घरेलु उपचार जिन को आप घर पर ही कर सकते है | हमारे यहां दादी मां के नुस्खे खजाने में तमाम बीमारियों के घरेलू उपचार मौजूद होते थे, जो असरदार भी रहे हैं। लेकिन अब उनके इस्तेमाल में दादी मां की तरह सावधानी नहीं बरती जाती। आइए जानें क्या है वे सावधानियां और उनका कैसे पालन करना होगा इन सब बातो के बारे में जानते है

कोविड-19 महामारी से बचाव के लिए काफी लोग काढ़ा, तुलसी और लेमन टी, गिलोय जूस और दूसरी कई चीजों का इस्तेमाल कर रहे हैं। खास बात यह है कि इसके इस्तेमाल के बारे में किसी विशेषज्ञ से कोई सलाह भी नहीं ली जाती। हम यह नहीं जानते हैं कि इन चीजों को कितना पीना चाहिए या ये चीजें कितनी हानिकारक हो सकती हैं।

दादी मां के नुस्खे: कई बीमारियों में घरेलू इलाज

कुछ लोगों में पेट खराब होने, उल्टी और बुखार के लक्षण मिल रहे हैं। ये सभी लक्षण कोविड-19 लक्षणों की तरह हो सकते हैं और उन्हें लग सकता है कि वे कोविड-19 से पीड़ित हैं, लेकिन वे असल में उन सभी चीजों के दुष्प्रभाव का असर है, जिसका इस्तेमाल इम्युनिटी को मजबूत करने के लिए किया जा रहा है। ऐसी चीजों के अधिक सेवन से दुष्प्रभाव सामने आ सकते हैं। यानी उनके सेवन में सावधानी जरूरी हो जाती है।

कई बीमारियों में घरेलू इलाज

भारत में घरेलू इलाज कोविड-19 संक्रमण तक ही सीमित नहीं है। हमारे पास सभी तरह के रोगों के लिए घरेलू इलाज मौजूद होता है, क्योंकि हम दादी मां की देखभाल में बड़े होते हैं।

सिरदर्द से लेकर बुखार, खराब गला, डायबिटीज, किडनी संक्रमण तक के लिए हमारे पास प्राचीन घरेलू इलाज उपलब्ध होता है। न कोई चिंता, न कोई फार्मेसी, बस किचन में कुछ मिनट में बने नुस्खों से आप बीमारी को मैनेज कर सकते हैं।

मान्यता है कि ये जड़ी-बूटियों से युक्त मसाले केवल रोग का इलाज करते हैं, बल्कि उन्हें होने से भी रोकते हैं। लेकिन कई गंभीर बीमारियों का इलाज घर में खुद करने से नुकसान भी हो सकता है।

इसकी वजह कई बार उनकी गलत मात्रा भी बन सकती है और कई बार घरेलू उपचार के मिलाए जाने वाले कई हर्ब्स के अनुपात में गड़बड़ी हो सकती है। यानी आप जो घरेलू उपचार करने जा रहे हैं, उनके बारे में विशेषज्ञ की सलाह जरूरी हो जाती है।

किडनी संक्रमण के लिए घरेलू इलाज किडनी संक्रमण में यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन यानी

यूटीआई आमतौर पर गंभीर होता है, क्योंकि इनमें किडनी को क्षति पहुंचाने की क्षमता होती है। यूटीआई ब्लैडर, युरेटर्स को भी प्रभावित करता है, लेकिन इन्हें नुकसान की आशंका कम होती है। हालांकि किडनी इन्फेक्शन के लिए केवल घरेलू इलाज करना सही नहीं होता।

इस संक्रमण पर काबू पाने के लिए एंटीबायोटिक की जरूरत होती है। हालांकि अपनी रिकवरी को सपोर्ट करने और किडनी संक्रमण को दुबारा होने से रोकने के लिए घरेलू इलाज का इस्तेमाल किया जा सकता है। लेकिन ध्यान रखना चाहिए कि अपनी मर्जी से किडनी का घरेलू उपचार न करें।

सप्लीमेंट्स भी हो सकता है नुकसानदेह

प्राकृतिक चीजों को सेहत से भरपूर समझना आम है, लेकिन ऐसी कई चीजें नुकसानदेह भी हो सकती हैं ऐसे अनेक सप्लीमेंट्स होते हैं, जो आपकी सेहत को लाभ पहुंचाने की जगह नुकसान पहुंचा सकते हैं। एक स्टडी के अनुसार, बच्चों में डाइरेक्ट सप्लीमेंट या हर्बल लेने से ज्यादा रिस्क होता है।

हर्बल सप्लीमेंट्स के लोकप्रिय होने का एक कारण यह था कि इसे खरीदना आसान होता है। इसके लिए किसी डॉक्टर की सलाह की जरूरत नहीं होती।

Share Now

One Reply to “दादी मां के नुस्खे: कई बीमारियों में घरेलू इलाज”

  1. Pingback: Best Fitness Tips 2020: डेस्क व्यायाम कम समय में आपको रखेंगे फिट - All Gk Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *