By | August 25, 2020

हमारे देश की बैंकिंग व्यवस्था काफी मजबूत स्थिति में है। हर साल लाखों युवा बैंकिंग की परीक्षाएं देते हैं। इससे प्रतियोगिता का स्तर तो बढ़ा है, पर मौके कम नहीं हुए हैं।

सरकारी नौकरी की चाह में ज्यादातर युवा बैंकिंग क्षेत्र का रुख करते हैं। यहां लगभग हर क्षेत्र के कुशल युवा अपने लिए अवसर तलाशते हैं। डिजिटल बैंकिंग और इनवेस्टमेंट बैंकिंग जैसे नए क्षेत्रों के आने से रोजगार के नए और बेहतर मौके बने हैं। बैंकिंग एक ऐसा क्षेत्र है, जो विपरीत हालातों में भी बढ़ता रहा है।

कोरोना महामारी में भी बैंकों का कार्य रुका नहीं है। बल्कि इस दौरान सरकारी और पुराने निजी बैंकों के लगभग 9 लाख कर्मचारियों की सैलरी पर 15 फीसदी इजाफे को मंजूरी मिली है। इसे खासतौर पर युवाओं में बैंकिंग को लेकर एक सकारात्मक रुख बना है।

🔸बैंक में नौकरी पाने के आसान तरीके

हमारे बैंकों की स्थिति काफी बेहतर है। आगे बैंकिंग व्यवस्था में रोजगार के ढेरों मौके बनेंगे। लॉकडाउन के दौरान ‘एसबीआई क्लेरिकल’ की सात हजार से ज्यादा रिक्तियां निकली थी, जिसका प्री एग्जाम भी हो चुका है। हाल ही में क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों में साढ़े नौ हजार से ज्यादा रिक्तियां निकली थीं। आईबीपीएस पीओ/मैनेजमेंट ट्रेनी की 1167 रिक्तियों की घोषणा हो चुकी है। एसबीआई में सर्कल बेस्ड ऑफिसर के पद पर 3850 रिक्तियों की घोषणा हुई है। आरबीआई ने भी स्पेशलिस्ट ऑफिसरों की रिक्तियां निकाली है, आगे और भी निकाली। आईबीपीएस क्लर्क, एसबीआई पीओ में रिक्तियों की जल्द ही घोषणा हो सकती है।

🔸कार्यशैली को बनाया आसान

बैंकों में भी ‘वर्क फ्रॉम होम’ कार्यशैली को अपनाया जा रहा है। कोरोना महामारी के पहले से ही एक्सिस बैंक इस मॉडल पर काम कर रहा था। एचडीएफसी ने भी स्थायी रूप से अपने एक-तिहाई कर्मचारियों के लिए ‘वर्क फ्रॉम होम’ लागू कर दिया है। आगे वहीं एसबीआई एक कदम बढ़ाकर ‘वर्क फ्रॉम एनिवेयर’ कार्यशैली को अपनाने की योजना पर काम कर रहा है।

🔸कई स्तर की होती हैं परीक्षाएं

बैंकिंग परीक्षाओं को बहुत कठिन नहीं कह सकते। बैंकों की सीमित रिक्तियों को भरने के लिए लाखों की संख्या में प्रत्याशी आवेदन करते हैं। इससे स्पर्धा का स्तर बढ़ जरूर गया है। एसबीआई और आरबीआई को छोड़कर बाकी सभी सरकारी बैंकों में चयन के लिए आईबीपीएस (इंस्टीट्यूट ऑफ बैंकिंग पर्सनल सेलेक्शन) परीक्षा का आयोजन करता है।

इस परीक्षा के माध्यम से राष्ट्रीयकृत बैंकों और क्षेत्रीय गामीण बैंकों में प्रोबेशनरी ऑफिसर, क्लेरिकल ग्रेड और स्पेशलिस्ट ऑफिसर के पद भरे जाते हैं। राज्यों के सहकारी बैंकों में रिक्तियों को भरने के लिए अलग से परीक्षा होती है।

आरबीआई (रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया) ग्रेड बी और असिस्टेंट स्तर की परीक्षाएं आयोजित करता है। ग्रामीण विकास से जुड़ा संस्थान नाबार्ड (नेशनल बैंक फॉर एग्रीकल्चर एंड रूरल डेवलपमेंट) भी रिक्तियां निकालता है। इसी तरह सेबी (सिक्योरिटी एंड एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया), सिडबी (स्मॉल इंडस्ट्रियल डेवलपमेंट बैंक ऑफ इंडिया) भी इस क्षेत्र के पेशेवरों के चयन के लिए परीक्षा आयोजित करता है।

बैंक की तैयारी करने वाले छात्र सरकारी बीमा क्षेत्र जैसे एलआईसी, एनआईएसीएल, ओरिएंटल इंश्योरेंस आदि की परीक्षाएं भी दे सकते हैं।

शैक्षिक योग्यता और न्यूनतम आयु

किसी भी बैंकिंग क्षेत्र की परीक्षा देने के लिए ग्रेजुएट होना जरूरी है। लेकिन आरबीआई ग्रेड बी परीक्षा में वही उम्मीदवार बैठ सकते

Share Now

One Reply to “बैंक में नौकरी पाने के आसान तरीके : नौकरी के मौके हैं भरपूर”

  1. Pingback: Padhaai Mein man Nahin Lagta पढ़ाई में मन नहीं लगता? - All Gk Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *