आर्थिक समीक्षा 2019-20 सार-संग्रह
आर्थिक समीक्षा 2019-20 सार-संग्रह 

दोस्तों आज हम लाये है Arthik Samiksha 2019-20 Sar Sangrah (आर्थिक समीक्षा 2019-20 सार-संग्रह ) जो राजस्थान पुलिस कांस्टेबल, पटवारी,आदि सभी प्रतियोगी परीक्षाओ में आपकें काम आने वाले है

Arthik Samiksha 2019-20 Sar Sangrah (आर्थिक समीक्षा 2019-20 सार-संग्रह )

राजस्थान भौगोलिक क्षेत्रफल (342239 वर्ग किलोमीटर) की दृष्टि से भारत का सबसे बड़ा राज्य है राजस्थान को प्रशासनिक दृष्टि से देखा जाए तो राजस्थान में 7 संभागों और 33 जिलों में विभाजित किया गया है

जनसांख्यिकीय रूपरेखा

जनसंख्या

2011 की जनगणना के अनुसार देखा जाए तो राजस्थान की कुल जनसंख्या जो है वह 6.85 करोड़ के लगभग है । और यदि क्षेत्रवार विभाजन की दृष्टि से देखा जाए तो राजस्थान की शहरी आबादी 1.70 करोड़ है जो कि राजस्थान की कुल आबादी की 24.9% है जबकि राजस्थान की ग्रामीण आबादी जो है वह 5.15 करोड़ है जो कि राजस्थान की कुल आबादी की 75.1 प्रतिशत है ।


लिंगानुपात

2011 की जनगणना के अनुसार राजस्थान का लिंगानुपात प्रति 1000 पुरुषों पर 928 महिलाओं का आ रहा है ।राजस्थान के शहरी क्षेत्र के लिंग अनुपात में 2011 में प्रति एक हजार पुरुषों पर 914 महिलाएं हैं जबकि 2011 में प्रति एक हजार पुरुषों की तुलना में 890 महिलाएं थी जिससे यह दृष्टिगत होता है कि शहरी क्षेत्र के लिंगानुपात में प्रति एक हजार पुरुषों पर महिलाओं की संख्या में चॉइस की वृद्धि हुई है ।


साक्षरता

राजस्थान के अंदर सन 1961 से लेकर 2011 के बीच के अंतराल में साक्षरता दर में काफी अधिक वृद्धि हुई है जो कि 2011 में राजस्थान में साक्षरता दर 2001 के 60.4% से बढ़कर 66.1% हो गई है ।


जबकि हम क्षेत्र के हिसाब से बात करें तो साक्षरता के अनुसार 2001 में राजस्थान के शहरी क्षेत्र की जो औसत साक्षरता दर है वह है 79.70% इसकी तुलना में ग्रामीण क्षेत्र में 61.4% रही है ।


राजस्थान की अर्थव्यवस्था

सकल राज्य घरेलू उत्पाद एवं प्रति व्यक्ति आय राजकीय अर्थव्यवस्था की प्रगति को प्रदर्शित करते हैं सकल राज्य घरेलू उत्पाद को प्राय राजस्थान आय के या राज्य आय के नाम से जाना जाता है ।


सकल राज्य घरेलू उत्पाद

वर्ष 2019 20 के अनुमानों के अनुसार प्रचलित कीमतों पर सकल राज्य घरेलू उत्पाद लगभग 1020989 करोड माना गया है जो कि पिछले साल दो हजार अट्ठारह उन्नीस के 942586 करोड़ से 8.32% की वृद्धि को दर्शाता है ।


बैंकिंग एवं वित्त

राजस्थान में सितंबर 2019 तक 7491 बैंक शाखाएं प्रचलित थे जिनमें से 4260 राष्ट्रीय कृत बैंक थे 1560 क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक थे और 1354 निजी क्षेत्र के बैंक थे 6 विदेशी बैंक तथा 311 लघु वित्त बैंक प्रचलित थे ।


राजस्थान में सितंबर 2019 तक जमाव में सितंबर 2018 की तुलना में 11 दशमलव 97% की वृद्धि हुई है जबकि इसी अवधि के तहत अखिल भारतीय स्तर पर यह वृद्धि 10.05% रही है ।


यदि हम बात करें सितंबर 2019 तक राजस्थान में समस्त सूचीबद्ध वाणिज्यिक बैंकों का साथ जमा अनुपात कितना था तो बहन था 78.13% और अखिल भारतीय स्तर पर इसी अवधि में यह अनुपात था 75 दशमलव 62% जबकि सितंबर 2018 तक राजस्थान में यह अनुपात 74.43% तथा अखिल भारतीय स्तर पर 76 दशमलव 44 प्रतिशत रहा था ।


कृषि एवं संबंध सेवाएं

वर्षा

राजस्थान में पूरे मानसून सत्र 2019 की बात करें तो इसके दौरान अधिकांश जिलों में सामान्य या सामान्य से अधिक वर्षा हुई है जबकि गंगानगर हनुमानगढ़ एवं अलवर जिलों में सामान्य से कम वर्षा दर्ज की गई है । राजस्थान के अंदर 1 जून से 30 सितंबर 2019 तक की जो समय अवधि है उसमें वास्तविक वर्षा 774 दशमलव 38 मीमी हुई है जो कि सामान्य वर्षा 530.08 मीमी की तुलना में 46.09% अधिक है ।


कृषि

राजस्थान की अर्थव्यवस्था में कृषि एवं संबंधित क्षेत्रों की महत्वपूर्ण भूमिका रही है कृषि एवं संबंधित क्षेत्र गतिविधियों में प्राथमिक रूप से कृषि फसलें पशुपालन मत्स्य पालन एवं वानिकी आदि सम्मिलित है । यदि हम पहले के अनुमान के अनुसार राज्य में वर्ष 2019 20 में खाद्यान्न का कुल उत्पादन 249.1 88 लाख मैट्रिक टन होने की संभावना है जो कि पिछले वर्ष के 231 दशमलव 25 लाख मैट्रिक टन की तुलना में 8.06% ज्यादा है ।


राजीव गांधी कृषक साथी सहायता योजना


राजीव गांधी कृषक साथी सहायता योजना के तहत कृषि विपणन हेतु कृषकों को खेतिहर मजदूरों को एवं अम्मालो आदि को वित्तीय सहायता प्रदान की जाती है इस योजना के तहत कार्यस्थल पर दुर्घटना बस मृत्यु होने पर ₹200000 की वित्तीय राशि सहायता प्रदान की जाती है । यदि हम बात करें 2019 20के दौरान दिसंबर 2019 तक 2087 किसानों को लगभग 30.26 करोड़ का भुगतान दिया जा चुका है ।


पशु गणना 2019


पशु गणना 2019 के अनुसार यदि हम बात करें राजस्थान में तो राजस्थान में कुल 567.76 लाख पशुधन एवं 146.23 लाख कुक्कुट संपदा है यदि हम देश के कुल पशुधन संपदा की बात करें तो देश में कुल पशुधन 10.60% पशुधन राजस्थान में उपलब्ध है । और राजस्थान में भारत के कुल पशुधन कीबात करें तो राजस्थान में भारत के कुल पशुधन का 7.23 प्रतिशत गोवंश 12.6 40% भैंस वंश और 14% बकरियां 10 दशमलव 64% भेंड तथा 84.5% उस्ट्रवंश उपलब्ध है ।


सिंचाई


राजस्थान में सिंचाई विभाग के सतत प्रयासों से स्वतंत्रता से पूर्व केवल 400000 हेक्टेयर क्षेत्र में उपलब्ध सिंचाई सुविधा की तुलना में वर्ष 2018-19 तक 38.7 लाख हेक्टेयर सिंचाई क्षमता का सर्जन किया जा चुका है ।


वित्तीय वर्ष 2019-20 में दिसंबर 2019 तक 9793 हेक्टेयर क्षेत्र में अतिरिक्त सिंचाई सुविधाओं का सृजन किया गया है ।


राजस्थान जल क्षेत्र आजीविका सुधार परियोजना


137 सिंचाई परियोजनाओं के पुनर्वास एवं नवीनीकरण के लिए जापान इंटरनेशनल कॉरपोरेशन एजेंसी से कर्ज सहायता प्राप्त करने के लिए राजस्थान जल क्षेत्र आजीविका सुधार परियोजना को मंजूरी दे दी गई है । राजस्थान जल क्षेत्र आजीविका सुधार परियोजना के तहत कुल 4 दशमलव 70 लाख हेक्टेयर सिंचित क्षेत्र में कार्य किए जाएंगे ।


राजस्थान जल क्षेत्र आज का सुधार परियोजना की अनुमानित लागत राशि जो है 2348.87 करोड़ है । और इस योजना के अंतर्गत राजस्थान सरकार द्वारा उपलब्ध राशि 377 दशमलव 81 करोड़ है ।


प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना - सूक्ष्म सिंचाई योजना


इससे सिंचाई परियोजना में ड्रिप एवं फव्वारा सिंचाई पद्धति पर आधारित प्रभावी जल प्रबंधन की व्यवस्था की गई है इसका प्रावधान वर्ष 2019 से 20 के लिए 117 दशमलव 92 करोड़ है ड्रिप एवं फव्वारा द्वारा सिंचाई के लिए राजस्थान निधि से अतिरिक्त अनुदान के रूप में 21 दशमलव 78 करोड आवंटित किए गए हैं ।